Network Security Model in Cryptography। क्रिप्टोग्राफी में नेटवर्क सुरक्षा मॉडल

Network Security Model : नेटवर्क सुरक्षा क्रिप्टोग्राफी पर आधारित है जो संदेशों को सुरक्षित बनाने और हमले की संभावना कम करने के लिए उन्हें बदलने की कला है। नेटवर्क को अनधिकृत पहुंच से सुरक्षित रखने के लिए सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर दोनों घटकों की आवश्यकता होती है।

क्रिप्टोग्राफी नेटवर्क सुरक्षा क्या है ? What is cryptography network security

क्रिप्टोग्राफी नेटवर्क सुरक्षा दो मुख्य क्षेत्रों को कवर करती है: एक नेटवर्क पर और एक नेटवर्क पर क्रिप्टोग्राफिक संपत्ति की सुरक्षा के रूप में सूचना का एन्क्रिप्शन।

नेटवर्क जानकारी का एन्क्रिप्शन एक विस्तृत क्षेत्र है। जानकारी को एन्क्रिप्ट करने के विभिन्न तरीके हैं, लेकिन सार्वजनिक कुंजी एन्क्रिप्शन और हैश फ़ंक्शन दो अधिक सामान्य हैं।

क्रिप्टोग्राफिक संपत्ति की सुरक्षा एक समस्या है क्योंकि नेटवर्क कंप्यूटर सामान्य हो गए हैं – सबसे अच्छा सुरक्षा उपाय आम तौर पर माध्यमिक एन्क्रिप्शन विधियों और कर्मचारी प्रशिक्षण पर केंद्रित होते हैं।क्रिप्टोग्राफी नेटवर्क सुरक्षा का अन्य उपयोग क्रिप्टोग्राफिक जानकारी को सुरक्षित रख रहा है। कंप्यूटर को एन्क्रिप्ट करना या सार्वजनिक कुंजी संदेश भेजना केवल तब तक सुरक्षित है जब तक संदेशों को बाधित करने वाले व्यक्ति के पास डिक्रिप्शन कुंजी तक पहुंच न हो। नतीजतन, कई कंपनियां चाबियों को सुरक्षित रखने में बहुत समय और पैसा खर्च करती हैं।

क्रिप्टोग्राफी नेटवर्क सुरक्षा में उपयोग की जाने वाली सबसे आम सच्ची एन्क्रिप्शन विधि को सार्वजनिक कुंजी एन्क्रिप्शन कहा जाता है। यह एन्क्रिप्शन विधि दो अलग-अलग कुंजी पर निर्भर करती है। एक कुंजी सार्वजनिक और किसी के लिए उपलब्ध है जो इसे चाहती है, जबकि दूसरा निजी और गुप्त है। अन्य सामान्य क्रिप्टोग्राफी नेटवर्क सुरक्षा वास्तव में क्रिप्टोग्राफी नहीं है, लेकिन यह इतना समान है कि यह विशिष्ट क्रिप्टोग्राफिक विधियों के साथ जुड़ा हुआ है।

Network Security Model

जब भी हम source से destination तक कोई data भेजते है तो हमें कुछ transfer method का प्रयोग करना पड़ता है जैसे कि internet या दूसरा कोई communication channel जिसके द्वारा हम हमने data को भेज सकें. जब source से destination तक data का ट्रान्सफर होता है तो इन दोनों के मध्य logical information channel को स्थापित किया जाता है. यह logical information channel जो है वह protocols का प्रयोग करके स्थापित किया जाता है।

जब protocol का प्रयोग logical information channel के लिए करते है तो इसमें सबसे मुख्य मुद्दा security का आता है. क्योंकि कोई attacker भेजे जाने वाले data को चुरा सकता है , modify कर सकता है और delete कर सकता है. security प्रदान करने के लिए जिन तकनीकों का प्रयोग किया जाता है उनमें दो components होते हैं।

भेजी जाने वाले data पर security से संबंधित परिवर्तन।

दो principals के द्वारा share की गई कुछ secret information और, इसमें यह आशा की जाती है कि यह oponent को इसके बारें में पता ना हो ।

इसमें कभी-कभी सुरक्षित transmission करने के लिए trusted third party का प्रयोग किया जाता है. उदाहरण के लिए – दोनों principals को secret information देने के लिए इसका प्रयोग किया जा सकता है या फिर दो principals के मध्य message की authenticity को लेकर होने वाले विवाद को solve करने के लिए इसका प्रयोग किया जा सकता है।

Read also : Cryptography in hindi। Cryptography types in Hindi । क्रिप्टोग्राफी इन हिंदी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!