इक्विटेबल मॉर्गेज क्या है ? Equitable Mortgage Kya Hai

जब होम लोन के संदर्भ में “मॉर्गेज” शब्द का उपयोग किया जाता है, तो हम जानते हैं कि ऋण को ऋणदाता को बंधक तक गिरना पड़ता है जब तक कि लोन पूरी तरह से चुकाया जाता है। बंधक धन उधार लेने के लिए एक संपत्ति में रुचि के हस्तांतरण को संदर्भित करता है।

आज हम यहाँ पर आपको मॉर्गेज क्या है और उसके कितने प्रकार है उसके बारे में चर्चा करेंगे

मॉर्गेज क्या है ? What is Mortgage

Mortgage का हिंदी में अर्थ होता है गिरवी, मॉर्गेज यानी मकान या फ़्लैट ख़रीदने के लिए उधार लिया पैसा। आप अपने घर को बैंक के पास गिरवी रखकर लोन ले सकते है और इसे Mortgage Loans कहा जाता है।

Mortgage Loan

मॉर्गेज लोन संपत्ति के ऊपर लिया जाने वाला लोन होता है। मॉर्गेज लोन में हम किसी संपत्ति को गिरवी रखकर बैंक या वित्तीय संस्थान से पैसा उधार लेते हैं आप इस लोन का अपना नया मकान खरीदने या बनवाने के लिए भी ले सकते है

मॉर्गेज लोन 2 प्रकार के होते है। Types Of Mortgage

  1. इक्विटेबल मॉर्गेज (Equitable Mortgage)
  2. रजिस्टर्ड मॉर्गेज (Registered Mortgage)

इक्विटेबल मॉर्गेज क्या है ? What is Equitable Mortgage

इक्विटेबल मॉर्गेज को इम्प्लाइड या कंस्ट्रक्टिव मॉर्गेज भी कहते हैं। इसमें किसी तरह की कानूनी प्रक्रिया शामिल नहीं होती है।

इक्विटेबल मॉर्गेज लोन में हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां (HFC) आपकी प्रॉपर्टी के दस्तावेज की जाँच (verify) करती हैं और लोन एग्रीमेंट साइन कर आपको लोन ऑफर कर दिया जाता है इक्विटेबल मॉर्गेज लोन में मॉर्गेज रजिस्टर करने की जरूरत नहीं पड़ती।

कोई व्यक्ति बैंक या किसी अन्य से इस अग्रीमेंट पर पैसा लेता है कि उसकी प्रॉपर्टी, जिस पर इक्विटेबल मॉर्गेज बनाया गया है, वह लोन की सुरक्षा के तौर पर काम करता है।  इक्विटेबल मॉर्गज (Equitable Mortgage) में जो स्टैंप ड्यूटी चुकाई जाती है, वह रजिस्टर्ड मॉर्गज की तुलना में बहुत कम होती है।

उधारकर्ता को उधार लेने वाले पैसे के लिए सुरक्षा के रूप में अपने शीर्षक कार्य को जमा करना पड़ता है।

Equitable mortgage meaning  in hind :  सामयिक बंधक

रजिस्टर्ड मॉर्गेज क्या है ? What is Registered Mortgage

रजिस्टर्ड मॉर्गेज लोन में मॉर्गेज को संबंधित अथॉरिटी के साथ रजिस्टर किया जाता है। यहाँ आपकी प्रॉपर्टी के मॉर्गेज रजिस्ट्रेशन पर लगने वाला चार्ज सरकारी आंकड़ों में दर्ज हो जाता है. इस तरह से कर्ज लेने वाला व्यक्ति ही आमतौर पर रजिस्ट्रेशन चार्ज चुकाता है।

एक पंजीकृत बंधक में, उधारकर्ता को ऋण के लिए सुरक्षा के रूप में ऋणदाता को ब्याज हस्तांतरण के सबूत के रूप में औपचारिक, लिखित प्रक्रिया के माध्यम से उप-रजिस्ट्रार के साथ संपत्ति पर शुल्क बनाना पड़ता है। पंजीकृत बंधक को ‘ट्रस्ट ऑफ ट्रस्ट’ के रूप में भी जाना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!